वास्तु

vastu_img

वास्तु सूचक

vastu_img

वास्तुशास्त्र

vastu_img

वास्तव में वास्तु क्या है?

यह माना जाता है कि वास्तुशास्त्र हमारे जीवन को बेहतर बनाने एवं कुछ गलत चीजों से हमारी रक्षा करने में मदद करता है। दूसरे शब्दों में कहें तो वास्तुशास्त्र हमें नकारात्मक तत्वों से दूर सुरक्षित वातावरण में रखता है। वास्तुशास्त्र सदियों पुराना निर्माण का विज्ञान है, जिसमें वास्तुकला के सिद्धांत और दर्शन सम्मिलित हैं, जो किसी भी भवन निर्माण में बहुत अधिक महत्व रखते हैं। इनका प्रभाव मानव की जीवन शैली एवं रहन सहन पर पड़ता है।

वास्तुशास्त्र का मूल आधार विविध प्राकृतिक ऊर्जाओं पर निर्भर है, जो हमारे लिए शुल्क रहित उपलब्ध हैं। हां, बिल्कुल निःशुल्क। इसमें निम्न शामिल हो सकती हैं :-


  • पृथ्वी से ऊर्जा प्राप्ति
  • दिन के उजाले से ऊर्जा
  • सूर्य की ऊर्जा या सौर ऊर्जा
  • वायु से ऊर्जा
  • आकाश से ऊर्जा प्राप्ति
  • लौकिक / ब्रह्मांड से ऊर्जा
  • चंद्रमा की ऊर्जा
  • vastu_img

    ऊर्जा स्रोत में चुंबकीय, थर्मल और विद्युत ऊर्जा भी शामिल होगी। जब हम इन सभी ऊर्जाओं का आनन्दमय उपयोग करते हैं, तो यह हमें अत्यंत आंतरिक खुशी, मन की शांति, स्वास्थ्य एवं समृद्धि के लिए धन प्रदान करती हैं। वास्तु को किसी भी प्रकार के कमरे, घर, वाणिज्यिक या आवासीय संपत्ति, बंगले, विला, मंदिर, नगर नियोजन आदि के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है। वास्तु छोटी एवं बड़ी परियोजनाओं एवं उपक्रमों पर भी लागू होता है। पूर्ण सामंजस्य बनाने के लिए तीन बल महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं, जिनमें जल, अग्नि एवं वायु शामिल हैं। वास्तु के अनुसार, वहां पूर्ण सद्भाव और शांति होगी, जहां यह तीनों बल अपनी सही जगह पर स्थित होंगे। अगर इन तीन बलों की जगह में आपसी परिवर्तन यानी गड़बड़ी होती है, जैसे कि जल की जगह वायु या अग्नि को रखा जाए तथा अन्य ताकत का गलत स्थानांतरण हो तो इस गलत संयोजन का जीवन पर बुरा प्रभाव पड़ता है, जिसके कारण सद्भाव की कमी एवं अशांति पैदा होती है।

    वास्तु टिप्स :

    कई पारंपरिक मान्यताओं के मुताबिक, प्रत्येक वास्तु का अपना ही ऊर्जा प्रकार होता है। जब एक बार कोई इंसान घर में रहना शुरू कर देता है, तो वह एक प्रकार के विशिष्ट ऊर्जा से जुड़ जाता है, और ये ऊर्जा उन्हें प्रभावित करना शुरू कर देती हैं। लेकिन जो विश्वास करते हैं, उनके घरो के लिए सकारात्मक ऊर्जा बहुत महत्वपूर्ण है। भारतीय वास्तु विज्ञान में यह सुनिश्चित करने के लिए कई वास्तु उपाय है, जिसके चलते बिना किसी ( संरचनात्मक ) परिवर्तन के घर खुशियों से भर जाता है।

    • संपत्ति के लिए वास्तु टिप्स : वित्तीय सलाहकार और स्मार्ट मनी के फैसलों के अलावा, आपकी संपत्ति को बढ़ाने तथा उसकी रक्षा करने हेतु संपत्ति के लिए वास्तु टिप्स को घरों तथा कार्यालयों में पालन किया जाना चाहिए ।

    • व्यवसाय के लिए वास्तु टिप्स : व्यापार में सफलता न सिर्फ मालिक, व्यवस्थापन तथा हितकारकों का मकसद है बल्कि कर्मचारीयों और उनके साथ जुड़े हुए अन्य लोगों का भी है । यह उनको व्यावसायिक विकास का विश्वास दिलाता है ।

    • शिक्षा के लिए वास्तु टिप्स : अच्छा अध्यापन माता पिता के प्रोत्साहन के साथ शिक्षा के लिए वास्तु टिप्स का पालन करने से बच्चे की शिक्षा में अग्रगण्यता प्राप्त हो सकती है।

    • पूजा कक्ष के लिए वास्तु टिप्स : पूजा का कमरा पूरे घर के लिए ऊर्जा का स्रोत है । पूजा के कमरे के लिए वास्तू सूचना का पालन करने से इस ऊर्जा का प्रभाव पूरे घर के लिए अतिरिक्त बढ़ जाता है ।

    • विवाह के लिए वास्तु टिप्स : क्या आप स्वयं या आपके परिवार में से कोई सदस्य भावी दुल्हा या दुल्हन ढुँढ़ने में असमर्थ हैं ? विवाह के लिए वास्तु सूचनाओं को आजमाओ जो उचित गठबंधन को आकर्षित करने में मदद करता है ।

    • घर के लिए वास्तु टिप्स : क्या घर के लिए वास्तु सूचनाओं का पालन करना आवश्यक है ? अगर आपको पूरे परिवार की स्वास्थ्य, संपत्ति, समृध्दि तथा समग्र तंदुरूस्ती अपेक्षित है तो वास्तु आवश्यक है ।

    • स्वास्थ्य के लिए वास्तु टिप्स : व्यक्ति के परिवार के स्वास्थ्य पर ध्यान केंद्रित करना आज के जीवन में महत्त्वपूर्ण हो गया है । इसके अलावा स्वास्थ्य संबंधी अन्य उपायों से स्वास्थ्य के लिए वास्तु सुझाव लोगों ने आजमाना अनिवार्य है ।

    • शयनकक्ष के लिए वास्तु टिप्स : वास्तु के घर में होने से तनाव मुक्त जीवन जीने के लिए महत्त्वपूर्ण होता है । रिश्तों में तालमेल तथा शांति के लिए शयनकक्ष के लिए वास्तु टिप्स का निश्चित रूप से पालन किया जाना चाहिए ।

    vastu shastra

    vastu_img

    Vastu Campass

    vastu_img